sarso ka rate today | sarso price today 2022

क्या आप sarso ka rate today 2022 में जानना चाहते है और sarso price today 2022 में जानकर आप सरसों बेचना या खरीदना चाहते है अगर हाँ तो यह पोस्ट आज का सरसों का भाव 2022 सिर्फ आपके ही लिए है

आज के इस पोस्ट सरसों का रेट आज का 2022 में आपको सरसों का क्या भाव है देखने को मिल जायेगा तो चलिए बिना किसी देरी के आइये
sarso rate today का जानते है तो चलिए शुरू करते है

 

sarso ka rate today | sarso price today 2022

sarso ka rate today | sarso price today 2022

आज की पोस्ट में हम बात करेंगे भारत के कुछ मुख्य राज्यों में सरसों के भाव के बारे में। भारत में सरसों का बाजार में क्या भाव चल रहा है? आप कैसे इसे उचित रेट पर खरीद सकते हैं?

अगर आप भी सरसों खरीदने की सोच रहे हैं, तो हमारी यह पोस्ट आपके लिए हेल्पफुल होगी। सरसों के भाव को जानने के लिए हमारी इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ना। तो चलिए शुरू करते हैं, हमारी आज की यह पोस्ट

भारत एक कृषि प्रधान देश है। यहां पर प्रचुर मात्रा में खेती की जाती है। भारत की लगभग 60% से अधिक जनसंख्या कृषि कार्य में लगी हुई है। अपनी कई मुख्य फसल के उत्पादन में भारत विश्व में नंबर वन पर आता है।

भारत में सरसों की भी एक मुख्य फसल है, जो सर्दियों में उगाई जाती है। यह एक तिलहन फसल है। तिलहन फसलों के उत्पादन में भी भारत का नाम अग्रणी है। सरसों एक मुख्य रबी की भी फसल है, जिसे भारत के विभिन्न राज्यों में बोया जाता है।

भारत में सरसों को उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब आदि राज्यों में बोया जाता है। सरसों को गेहूं के साथ उगाया जाता है। सरसों को ज्यादा उत्पादन के लिए अलग से दिल पाया जाता है। यह एक मिश्रित फसल भी है, जिसे आप गेहूं के खेत में बीच में लाइन बनाकर भी बो सकते हो।

सरसों को उगाने के कई मुख्य कारण है। सरसों के बीजों से तेल निकाला जाता है, जिसका प्रयोग हम खाना बनाने में करते हैं। सरसों के तेल का उपयोग सौंदर्य प्रसाधन साबुन क्रीम आदि को बनाने में भी किया जाता है। इसका यूज मशीनों में लुब्रिकेंट के तौर पर भी किया जाता है।

सरसों के तेल को निकालने के बाद जो अवशेष बचता है, उसका प्रयोग पशुओं के लिए आहार के रूप में किया जाता है। जिसे खल कहते हैं। खल खिलाने से पशुओं में दूध की मात्रा बढ़ती है। यह पशुओं के लिए मुख्य पोषक आहार है।

सरसों की फसल को मुख्य रूप से नवंबर में बोया जाता है ,जिसे मार्च-अप्रैल के अंत में काट दिया जाता है। पकने से पहले सरसों का प्रयोग पशुओं के चारे के लिए भी किया जा सकता है। सरसों के पत्तों का आप साग बना कर भी खा सकते हो।

अभी अगस्त का महीना खत्म होकर सितंबर चलने वाला है। इस समय सरसों की कटाई खत्म हो चुकी है। सरसों के रेट बाजार में दिन प्रतिदिन बढ़ रहे हैं। कृषि की उपज में भी सरसों का भाव काफी चर्चा में रहता है।

भारत में 2022 में सरसों की फसल का उत्पादन काफी अच्छा रहा है और बाजार में सरसों के भाव भी एमएसपी से कहीं ज्यादा चल रहे हैं। इस समय लगभग सभी किसान भाइयों ने अपनी सरसों की फसल को काटकर अच्छी तरीके से अपने घरों में स्टोरेज कर रखा है।

आए दिन किसान भाइयों में सरसों के बढ़ते हुए रेट को जानने की होड़ लगी हुई है। जैसे ही बाजार में सरसों के अच्छे रेट निकलेंगे तो वे अपनी फसल को उचित मूल्य पर बेच सकेंगे।


lohe ka rate today 2022 | लोहे का रेट टुडे 2022


 sarso rate today – sarso price today

 

भारत में सरसो को प्रति क्विंटल के हिसाब से बेचा जाता है। सरकार ने वर्ष 2022 23 के लिए सरसों का न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹5050 प्रति कुंतल रखा है।

यही भाव अप्रैल मई के महीने के बाद से ₹6200 से ₹8200 प्रति क्विंटल तक पहुंच गया है। जिसके भविष्य में और भी बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।

न्यू अपडेट 30 अगस्त ,वर्तमान स्थिति को देखते हुए भारत में सरसों के भाव में स्थिरता बनी हुई है। सरसों का यह भाव 6100 रुपए प्रति क्विंटल से 7150 रुपए प्रति क्विंटल है।

 

अलग-अलग राज्यों की मंडी में आज का सरसों का भाव 2022

 

  • सिरसा में आज का सरसों का भाव ₹6680 है।
  • जयपुर में सरसों का भाव 7350 रुपए प्रति क्विंटल है।
  • दिल्ली में सरसों का भाव ₹7000 प्रति क्विंटल है।
  • आगरा में सरसों का भाव 7850 रुपए प्रति क्विंटल है।
  • गवालियर में सरसों का भाव 6600 से ₹6700 प्रति क्विंटल है।
  • कोलकाता में सरसों का भाव ₹7500 प्रति क्विंटल है।
  • कानपुर में आज का सरसों का भाव ₹7300 प्रति क्विंटल है।
  • हिसार में सरसों का भाव ₹6700 प्रति क्विंटल है।

 

सरसों के भाव का तेजी से बढ़ने का कारण

 

भारत में विभिन्न राज्यों की मंडी में सरसों के भाव का तेजी से बढ़ने के मुख्य कारण हो सकते हैं

 

सरसों के भाव का बढ़ने का मुख्य कारण बाजार में आई नई फसल को कहा जा सकता है। सरकार द्वारा निकाले गए सरसों के न्यूनतम समर्थन मूल्य 5500 के बावजूद भी सरसों का भाव निरंतर मंडी में पढ़ता रहता है, लेकिन मंडी में सरसों की नई फसल के आने से इसका न्यूनतम मूल्य 6000 से ₹7000 प्रति क्विंटल पर पहुंच गया है।

शुरुआत में ही सरसों का भाव अच्छे होने के कारण बड़े और समझदार किसान इसे भंडारित करना शुरू कर देते हैं। जिसकी वजह से मार्केट में कम सरसों आती है। यह भी सरसों के भाव का बढ़ने का एक मुख्य कारण है।

भारत में वर्ष 2022 में सरसों का उत्पादन काफी अच्छा रहा है। इसके उत्पादन में 7 से 8% की वृद्धि देखने को मिली है। सरसों की फसल के अनुकूल मौसम रहने से इसकी फसल में 10 से 15% वृद्धि होने की आशाएं जताई जा रही है।

रूस और यूक्रेन के मध्य चल रहे युद्ध की वजह से भी बहुत अधिक मात्रा में सरसों के तेल की सप्लाई हो पाई है, जिसके कारण अधिक मात्रा में तेल का स्टॉक लगा हुआ है। इसी वजह से तिलहनी फसल चमक उठी हैं।

भविष्य में सरसों का भाव क्या रहेगा, इसे बता पाना थोड़ा मुश्किल है। लेकिन इतना तो तय है कि इस वर्ष किसानों को सरसों का मूल्य न्यूनतम समर्थन मूल्य से अधिक मिल रहा है।

 

दोस्तों यह थी हमारी आज की पोस्ट sarso ka rate today जिसमें हमने जाना sarso price today 2022 के बारे में भारत में
सरसों का रेट और मुख्य राज्यों की मंडी में सरसों का भाव। आशा करते हैं

कि हमारी यह पोस्ट आज का सरसों का भाव 2022 आपके लिए हेल्पफुल रही होगी। अगर आपको हमारी यह पोस्ट sarso rate today अच्छी लगी हो, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। धन्यवाद 😊

Leave a Comment